बारिश को कैसे नापा जाता है ? Rain Gauge.

बारिश को कैसे नापा जाता है ? Rain Gauge.


हम अक्सर पढ़ते या सुनते हैं कि इतने मिलीमीटर या इंच बारिश हुई। आखिर बारिश को नापते कैसे हैं ? इस सवाल का जवाब हमसे जानिए।


बारिश को नापने के लिए एक यंत्र का इस्तेमाल किया जाता है जिसे वर्षामापी यंत्र या रेन गेज ( Rain Gauge ) कहा जाता है । रेन गेज को खुली जगह पर लगाया जाता है , ताकि बारिश का पानी सीधे इसके अंदर जाए और सही माप मिल सके।


कैसा होता है रेन गेज ?

 यह एक सिलेंडर जैसा होता है और इसके ऊपरी हिस्से में कीप लगी होती है । इस कीप में से बारिश का पानी अंदर जाता है और इसके नीचे लगे बोतल जैसे पात्र में इकट्ठा होता है । जिसे बाद में स्केल के जरिए मापा जाता है । इस काम में ज्यादा से ज्यादा 10 मिनट का समय लगता है । कीप में गिरने वाला पानी इस बर्तन में इकट्ठा होता रहता है , जो वाष्पित ( Evaporate ) नहीं हो पाता । पहला रेन गेज ब्रिटेन के क्रिस्टोफर वेन ने सन् 1662 में बनाया था।


बारिश को नापने के लिए इस उपकरण के बाहरी सिलेंडर को खोलकर इसके अंदर इकट्ठे हुए पानी को बीकर में डाला जाता है। बीकर कांच का होता है और इसमें स्केल बने होते हैं। जितना मिलीमीटर पानी इस बीकर में आता है , वह बारिश की माप मानी जाती है। बीकर में स्केल मिलीमीटर और इंच में होते हैं। जितना मिलीमीटर पानी इस बीकर में आता है , वह बारिश की माप मानी जाती है। बीकर में स्केल मिलीमीटर और इंच में होते हैं।


कितनी बार नापा जाता है ? 

वर्षा विभाग द्वारा ज्यादातर बारिश को दिन में एक बार नापा जाता है , लेकिन बारिश के दिनों में या जिस दिन ज्यादा बारिश हो , ऐसी स्थिति में दिन में दो बार - सुबह 8 बजे और शाम 5 बजे नापा जाता है।


रेन गेज हमेशा बारिश की सही जानकारी दे , यह जरूरी नहीं है , क्योंकि कई बार बहुत तेज तूफान के साथ बारिश होने पर जानकारी लेना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में इसके टूटने की संभावना रहती है। रेन गेज किसी एक निश्चित स्थान की वर्षा को मापने में ही उपयोग किया जा सकता है , बहुत ज्यादा बड़े इलाके की बारिश को रेन गेज से नहीं मापा जा सकता। रेन गेज को पेड़ और बिल्डिंग से दूर रखा जाता है ताकि वर्षा का मापन ठीक - ठीक हो सके। ओले या बर्फबारी के समय भी रेन गेज से बारिश का माप सही नहीं हो पाता।


इन्फॉर्मेशन अच्छी लगी हो तो इस post को जरूर शेर करे। शेर करने से मोटिवेशन मिलता है। 

Post a Comment

0 Comments