Bhoot ki kahani. आखिर वो कौन थी जिसे किसीने नहीं देखा।

Bhoot ki kahani.

Bhoot ki kahani. आखिर वो कौन थी जिसे किसीने नहीं देखा। भूत की कहानी। आखिर वो लड़की कौन थी ? 

 एक बार राहुल अपने दोस्तों से मिलने के बाद अपने घर जा  रहा था। तभी उसने एक तालाब के पास बैठी एक लडक़ी को देखा। राहुल सोचता है कि, इस समय एक अकेली लड़की यहां क्या कर रही है ? वो उसके पास जाता है। राहुल उसको देखते ही उसके प्यार में पड़ जाता है। राहुल उस से उसका नाम पूछता है। लड़की अपना नाम मधुरिमा बताती है, और तुरंत वहां से खड़ी होकर वहां से चली जाती है। और राहुल भी अपने घर कीओर चलने लगता है। पर उस रात से राहुल के दिमाग में उस लड़की का मासूम चहेरा दिखाई देता था। क्योंकि उसे पहली नजर में ही प्रेम हो गया था। 


वो दूसरे दिन फिर उस तालाब के पास जाता है, और देखता है कि वो लड़की फिर उसी जगह उदास होकर बैठी थी। राहुल उसके पास जाकर उल्टी-सीधी बात कर के उसे खुश करने का प्रयास करता है। अब वो भी उसके साथ बात करने लगती है। धीरे धीरे उन दोनों के बीच प्रेम बढ़ने लगता है, और वो दोनों एक दूसरे से बेहद प्रेम करने लगता है। राहुल रोज अपनी मम्मी से झूठ बोलकर तालाब के पास मधुरिमा से मिलने जाता है।


एक दिन वो दोनों जब तालाब के किनारे बैठे होते है तब उसे एक व्यक्ति देख लेता है, और यह बात मधुरिमा के पापा से जाकर कह देता है। दूसरे दिन वो तालाब के पास जाता है, पर मधुरिमा वहां नहीं होती। ये देखकर वो मधुरिमा के गांव देखने के लिए जाता है। गांव में सभी लोग गुस्से में थे। जब लोगो ने राहुल को देखा तो सब ने राहुल को मारने लगे। राहुल जैसे तैसे कर के वहा से भागता है। भागते भागते एक झाड़ी के पास जाकर छुप जाता है। वो लोग राहुल को खोजते है, ना मिलने पर वो अभी चले जाते है। 


Bhoot ki kahani. डरावनी कहानी।


सभी के जाने के बाद राहुल बाहर निकलता है, और घर जाने के लिए दौड़ने लगता है। जब वो थोड़े दूर तक दौड़ता है तब उसे कोई जगह से आवाज आता हो ऐसा लगा। वो आवाज की तरफ धीरे पैर से चलने लगा। आवाज की दिशा के तरफ जाकर एक झाड़ी के पीछे छुपकर देखता है, तो उसे पता चलता है की कुछ लोग मधुरिमा की लास लेकर खड़े थे। और कुछ लोग उसे दफ़नाने के लिए खड़े खोद रहे थे। राहुल यह देखकर रोने लगता है। पर गांव लोगो के डर के कारण राहुल झाड़ी से बाहर नहीं निकलता। थोड़ी देर बाद आसपास कोई ना दिखाई देने पर वो कब्र के पास जाता है और बहोत रोता है। वो मधुरिमा को इतना प्रेम करता है कि, उसे कब्र में दफन हुआ देख उसे सहन नहीं होता। 


राहुल कब्र खोद के मधुरिमा की लाश को अपने घर ले जाता है। घर की बाजू वाली झुपड़ीं में उसे कपड़े से ढांक के रख रहा है होता है तभी उसकी मम्मी वहां आती है। उसकी मम्मी लास को देख के डर जाती है, और इसे जहा से लाया हो वहां वापस रख आने के लिए कहा। पर राहुल नहीं मानता। उसकी मम्मी को पता चल जाता है कि उसका बेटा नहीं मानने वाला इसलिए वो अपने बेटे को सो जाने के लिए कहती है। राहुल और उसकी मम्मी घर आकर सो जाती है। उसके बाद राहुल को सोने के बाद उसकी मम्मी उस लास को किसी दूर जंगल मे फेकने के लिए उस झुपड़ीं के पास आती है। 


दूसरे दिन जब राहुल उठकर सीधा उस झुपड़ी के पास जाकर देखती है तो वो चोंक जाता है, क्योंकि वहां मधुरिमा की लास की जगह उसकी मम्मी का लास पड़ा था। वो उसके पिता दूसरे गांव से आये तब तक राह देखता है। और बहोत होता है। उसके पिता दूसरे गांव से आते है और सारी बात बताते है। राहुल के पिता कहते है कि, तू जो दिशा से लास लाया था वो जगह ही शापित है। इस लिए तेरी मम्मी तुझे बार बार बाहर जाने से मना करती थी। राहुल यह बात मान नहीं सकता था। उसकी मम्मी की अन्तिमसँस्कार के बाद वो मधुरिमा के गांव की तरफ जाने के लिए निकलता है। वहां जाकर देखता है कि गांव के लोग उस दिन ग़ुस्से में उसे मारने के लिए दौड़ते थे आज तो वो उसे पहचानता भी नहीं था। 


वो कुछ लोगो से मधुरिमा के बारेमे पूछता था। पर गांव के लोग इस नाम की लड़की को इस गांव में होने से ही मना करती है, और राहुल को बताता है कि तू जिस तरीके से बोल रहा है तू पक्का किसी आत्मा के चक्कर मव पड़ गया था। और उसीने तेरी मम्मी को मारा होगा। इस घटनाका को बहोत समय बीत जाने के बाद भी राहुल को मधुरिमा का सपना दिखता है। और कई बार तो उसके पास आकर सो गया हो ऐसा अहसास होता है। 


Bhoot ki kahani - 2

Bhoot ki kahani.


दोपहर के लगभग बाहर बज रहे थे। में समुद्र के किनारे बैठ कर नारियल का पानी पी रहा था। इधर उधर नजर फेरने से अचानक मेरी नजर एक सुंदर लड़की पर गई। वो लगातार मेरी तरफ देख रही थी। मेने भी उनके सामने हाथ हिलाकर हाई कहा और एक स्माइल पर दिया। आसपास खास भीड़ नहीं थी। अगर कोई गड़बड़ होगा तो तुरंत भागने मव आसानी होगा। फिर वो सुंदर लड़की धीरे धीरे मेरे पास आने लगी। अब मुझे दे लगने लगा। कहीं मेरे से कोई गलती तो नहीं हुई ना ? पर गजब हो गया। वो लड़की आकर मेरे से हाथ मिलाया, और सीधा पूछा। चलो कहि चलते है। मेने आधा पिया हुआ नारियल फेक दिया और उसके साथ चलने लगा। 


उसमे एक गजब का आकर्षण था। मेने मेरी बाइक सुरु की, वो भी पीछे की सीट पर मुझे कस के पकड़ के बैठ गई  और हम वहां से निकल गए। रस्ते में मैने उसे पुछा, कहा चलना है ? तो उसने मीठी आवाज में कहा कब्रस्तान ले लो। उसने मजाक में पूछा वहां जाकर क्या करंगे ? तो लड़की ने कहा, मुझे तुम्हारा गर्म खून पीना है। यह सुनकर मेरा होश उड़ गया। पर अब कुछ हो सके ऐसा नहीं था। बात बदलने के लिए मेने उसका नाम पूछा। तो उसने कहा, आफत ! ये दूसरा झटका था। लड़की ने अचानक बाइक खड़ी रखें के लिए कहा। बाइक पर से नीचे उतरकर बोली, अब देख तूने अगर एक भी सवाल पूछा तो में तुम्हारे गले मेसे खून पीने लगूंगी। 


एक खूबसूरत लड़की का ऐसा बर्ताव देख कर मुझे बहोत डर लगने लगा। मेरा शरीर ध्रुजने लगा। मुझे लगा कि कोई आत्मा में इसके शरीर मे प्रवेश कर लिया है। फिर वो बाइक  पर बैठ गई और उसने जो जगह कहा उस जगह जाने लगा। कब्रस्तान आते ही वो तुरंत बाइक से उतर गई और मेने उसे कहा। बाई, में जा रहा हु। मुझे एक काम याद आया है। मेरे जाने की आवाज सुनकर वो एकदम ही बदल गई और सहते सहते बोली। अरे तू तो डर गया। में तो मजाक कर रही थी। चल अंदर मेरे पापा के कब्र के पास थोड़ा समय बिताना है फिर हम वापस चले जायेंगे। तू मुझे समुद्र के किनारे उतार देना। ओर वहां से चले जाना। 


ऐसा बोल के उकसा दिल पिघला दिया, पर उसकी हालत बहोत खराब थी। मेने बहोत हिम्मत कर के अंदर गया। वहां उसने अपना रूप बदल दिया। उसने अपना बाल खोल दिया, उसने पाने दुप्पटे को पेड़ की डाली पर लटका दिया और अचानक पेड़ के ऊपर उल्टा लटक गई फिर एकदम चुडैल के जैसे भयानक हसने लगी। मेरा तो होस ही उड़ गया। ये देखकर में तुंरत दरवाजे की तरफ भागा। दरवाजे के पास पहोंचा और देखा तो वो लड़की लम्बे बिखरे बाल और लाल आंख जैसे उसके सामने खड़ा हो गया। उसका एक हाथ जला हुआ दिखता था। उसने मेरा पैर पकड़ के जमीन पे पछाड़ा। फिर उसने मेरे नाजुक अंग पर मुक्का मारा। फिर एक जोरदार झटका लगा। बिजली का जोरदार लगा हो ऐसा लगा। 


Bhoot ki kahani. डरावनी कहानी।


थोडी देर बाद उसने फिर से मेरे मुह पर मुक्का मारा। फिर से बिजली का करंट लगा हो ऐसा लगा। फिर में पागलों की तहर चिल्लाने लगा और बेहोस हो गया। में होश में आया तो में कब्रस्तान में नहीं बल्कि समुद्र किनारे था, और मेरी बाईक भी वही थी। मुझे पता ही नहीं चला कि में कब्रस्तान से यहां कैसे आया। बिजली के करंट के कारण मेरा शरीर कांप रहा था। फिर मेने अपने दोस्तों से ये बात करी। उस मेसे एक दोस्त ने मुझे कहा की वहां एक जगह पे एक लड़की की आत्मा भटकती है। वह लड़की बहोत ही सुंदर होने के कारण बहोत सारे लड़के उसके पीछे पड़े थे, और उसे बहोत हेरान करते थे। कुछ बदमाशों ने उसे पकड़ के उसके साथ गलत कर के उसे मार के फेंक दिया था। तभी से यहां आने वाले सभी बदमाशों और तोफनी लड़कों को हैरान कर के मजा लेती है। 


इस कहानी को अपने दोस्तों को या ग्रुप में जरूर शेर करना। लिखने में और कहानी बनाने में बहोत वक्त लगता है भाई इस लिए शेर जरूर करे। धन्यवाद 🙏


इसे भी पढ़े।

 👇

Post a Comment

0 Comments