कठफोड़वा पक्षी। about Woodpeckers Birds.

कठफोड़वा पक्षी। about Woodpeckers Birds.


कठफोड़वा पक्षी। about Woodpeckers Birds.


 दुनिया का सबसे छोटा कठफोड़वा ' बार ब्रेस्टेड पिकलेट ' है। इसका आकार करीब 3 से 4 इंच होता है। सबसे बड़े आकार का कठफोड़वा एशिया में मिलता है, जिसे " ग्रेट स्लेटी वुडपेकर " कहते हैं। इसका आकार 20 इंच के करीब होता है। 

भारत सहित पूरे विश्व में कठफोड़वा की करीब 200 से अधिक प्रजातियां पाई जाती हैं। कठफोड़वा पक्षी का वैज्ञानिक नाम Picidae है। ये अलग अलग साइज और कलर में मिलता है। कठफोड़वा की कई प्रजातियां एशिया, अफ्रीका , यूरोप और साउथ अमेरिका में पाई जाती हैं। ऑस्ट्रेलिया और ध्रुवीय इलाकों में यह पक्षी नहीं मिलता है।


इसका औसत जीवन काल 5 से 15 वर्ष का होता है। कठफोड़वा की चोंच बहोत मजबूत और नुकीली होते है। यह एक सेकंड में 20 बार चोंच मार सकता है। जब यह अपनी चोंच पेड़ के तने पर मारता है तो उसकी आवाज दूर तक सुनी जा सकती है। यह पेड़ के तने में होल करके उसके अंदर के कीड़े निकालता। कठफोड़वा की कई प्रजातियां एशिया, अफ्रीका, यूरोप और साउथ अमेरिका में पाई जाती हैं। ऑस्ट्रेलिया और ध्रुवीय इलाकों में यह पक्षी नहीं मिलता है।


कठफोड़वा की जीभ भी बहोत मजबूत होती है। कठफोड़वा पेड़ के तने में घोंसला बनाता है। यह चोंच से तने के छेद को चौड़ा कर देता है। कठफोड़वा चोंच को तने पर कई बार मारता है, लेकिन फिर भी उसे चोट नहीं लगती। इसके पीछे का कारण है इसकी चोंच पर गद्देदार हड्डियां होती हैं, जो उस चोट से बचाती हैं।


मादा और नर कठफोड़वा पक्षी में अंतर बहुत कम होता है। इसके रंग से इसकी पहचान होती है। नर का माथा, गर्दन काले रंग का, जबकि मादा के सीने का रंग सफेद होता है। वैसे कठफोड़वा की विभिन्न प्रजातियों का रंग अलग  अलग होता है। कठफोड़वा पक्षी का मुख्य भोजन पेड़ की दरारों में पाए जाने वाले कीड़े और चींटियों के अंडे होते हैं। यह बीजों को भी खाता है।


Woodpeckers Birds


Post a Comment

0 Comments