About Sarus crane. सारस पक्षी। Bird

About Sarus crane. सारस पक्षी।

About Sarus crane. सारस पक्षी। Bird


 Sarus crane की भारत मे सबसे ज्यादा संख्या है। यह पक्षी भारत मे ज्यादा पाये जाते है। भारत के अलावा ऑस्ट्रेलिया के कुछ विस्तार में देखे जाते हैं और वो भी नसिब से। Sarus crane अपनी लम्बाई के कारण जाना जाता है। Sarus crane की गिनती लंबे पक्षियों में किया जाता है। जीव सृष्टि में पक्षी या जानवर में कुछ न कुछ विशेष देखने को मिलते है जो उसे अन्य पशु पक्षी से अलग दिखते है। Sarus crane में कुछ ऐसी विशेषता है।


Sarus crane की गर्दन लम्बी होती है, और उसके पेर भी लम्बे होते है। उसके शरीर का रंग ग्रे ओर सफ़ेद होते है। उसके सिर और गर्दन के कुछ भाग में लाल रंग होते है। Sarus crane की गिनती लम्बे पक्षियों में किया जाता है। उसकी लम्बाई 1.8 मीटर जितनी होती है। जो किसी एक इंसान के लम्बाई जितनी होती है। इतनी लम्बाई होने के बाबजूद यह उड़ सकता है। 


Sarus crane उड़ते हुए अपनी गर्दन को सीधा रख के उड़ते है। उसकी गर्दन लम्बे होने के कारण यह हमेशा इस तरह ही उड़ते है। मादा Sarus crane की लम्बाई नर Sarus crane से कम होती है। Sarus crane का वजन 5 किलोग्राम से लेके 10 किलोग्राम तक होता है। Sarus crane पानी के आसपास ज्यादातर पाए जाते है। जहा नदी या तालाब होते है वहीं रहना पसंद करते है। छोटी छोटी मछली, मेंढक और घोंघे इसके मनपंसद भोजन है। 


Sarus crane स्वभाव से शांत पक्षी है। और यह हमेशा समूह में देखे जाते है। यह कभी आपको अकेला नहीं दिखेंगे। यह हमेशा 2 या उस से अधिक Sarus crane के साथ रहते हैं। अगर कोई कारण से उसके साथी का मृत्यु हो जाता है या अलग हो जाता है तो वो ज्यादा दिन तक जिंदा नहीं रहते। 


Post a Comment

0 Comments